वयोवृद्ध कांग्रेसी गजेंद्र चौधरी “गज्जू”का निधन, शोक।

0

कांग्रेस का समर्पित कार्यकर्ता के रूप में याद रहेंगे गजेंद्र सिंह : बिनोद कुमार चौधरी।

गजेंद्र चौधरी “गज्जू” के निधन से हायाघाट का एक समाजसेवी स्तंभ ढह गया:- गुरकुन बाबा।

दरभंगा/हायाघाट:- दरभंगा के वयोवृध्द कांग्रेसी व हायाघाट के मझौलिया गाँव निवासी श्री गजेंद्र चौधरी(81) का बीती रात दरभंगा में हृदयाघात से हुआ निधन।

ज्ञात हो कि श्री चौधरी आजीवन कांग्रेस से जुड़े रहे और समाजसेवा में तत्पर रहे। लहेरियासराय के कमर्शियल चौक स्थित 6 दशक से प्रसिद्ध मिथिला टी सिंडिकेट के वो निदेशक थे। आज दशकों-दशक से 26 जनवरी व 15 अगस्त को कमर्शियल चौक पर वो झंडोत्तोलन करते आ रहे थे। दरभंगा के पूर्व शिक्षा मंत्री डॉ० नागेंद्र झा व समता पार्टी के संस्थापक सदस्य प्रो० उमाकांत चौधरी से आत्मिक लगाव था उनका। अंतिम दर्शन के लिये उनके शव को गाँव में रखा गया। जहां सैकड़ों लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी।

अपने श्रद्धांजलि में मझौलिया पंचायत के पूर्व मुखिया श्री सच्चिदानंद झा उर्फ गुरकुन बाबा ने कहा कि श्री गजेंद्र चौधरी के निधन से हम सब स्तब्ध है। आज हायाघाट के मझौलिया पंचायत का एक समाजसेवी स्तंभ सदा के लिये ढह गया। निकट भविष्य में इनकी भरपाई करना मुश्किल है। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दें और परिवार को इस दुख की घड़ी में संबल प्रदान करें। अंतिम संस्कार की प्रक्रिया उनके पैतृक गांव मझौलिया में की जा रही है। मुखाग्नि उनके पुत्र श्री कृष्णकांत चौधरी ने दी।

निधन की समाचार मिलते ही दरभंगा जिले के राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर दौड़ गई है। पूर्व विधानपरिषद डॉ विनोद चौधरी ने सोशल मीडिया के माध्यम से दुःख व्यक्त करते हुए फेसबुक पोस्ट पर लिखा है कि “दरभंगा जिला कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं 50 वर्षों से हमारे परिवार से व्यक्तिगत रूप से जुड़े श्री गजेंद्र चौधरी जी के निधन का समाचार अत्यंत ही दुखद है। श्री चौधरी बरसों से लहेरिया सराय के कमर्शियल चौक पर सभी दलों के नेताओं के बैठकी के लिए मिथिला टी सिंडिकेट नाम से चाय का एक छोटा सा दुकान चलाते थे। श्री चौधरी जैसा कांग्रेस का समर्पित कार्यकर्ता अब विरले ही मिलेगा। गजेंद्र बाबू को मैं अपनी ओर से और अपने परिवार की ओर से भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं और उन्हें शत-शत नमन करता हूं। ईश्वर उन्हें अपने श्री चरणों में स्थान दे।

रिपोर्ट : चंदन ठाकुर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here