शौचालय घोटाला: दरभंगा नगर निगम के मेयर और डिप्टी मेयर पर गिरी गाज।

0

नगर विकास एवं आवास विभाग के नगरपालिका प्रशासन निदेशालय ने कर्तव्य निर्वहन में अनदेखी करने के आरोप में दोषी पाकर दरभंगा नगर निगम की महापौर वैजयंती देवी खेड़िया, उप महापौर बदरुज्जमां खान व सशक्त स्थायी समिति के सात वार्ड पार्षद सदस्यों को पद से पद मुक्त कर दिया है। नगर विकास एवं आवास विभाग के नगरपालिका प्रशासन निदेशालय के उप सचिव के हस्ताक्षर से गत छह दिसंबर को जारी जारी पत्र में कहा गया है कि दरभंगा नगर निगम के पूर्व वार्ड पार्षद प्रदीप गुप्ता, आशुतोष कुमार, मुन्ना खान व पूर्व महापौर शंकर जायसवाल समेत 12 वार्ड पार्षदों ने तत्कालीन प्रमंडलीय आयुक्त को वर्ष 2018 में पत्र लिखा था। इसमें महापौर, नगर आयुक्त व स्थाई समिति के विरुद्ध नौ शौचालयों की बंदोबस्ती में 27 लाख रुपये की अनियमित छूट देने का आरोप लगाया गया था। इसके बाद आयुक्त ने उक्त परिवाद पत्र की जांच क्षेत्रीय विकास पदाधिकारी से कराई। 26 अक्टूबर 2019 को नगर विकास एवं आवास विभाग को जांच प्रतिवेदन की प्रति आवश्यक कार्यवाही के लिए उपलब्ध कराई गई। जांच प्रतिवेदन में दरभंगा नगर निगम के अंतर्गत 25 अगस्त 2016 से 24 अगस्त 2019 तक नौ शौचालयों की बंदोबस्ती के बाद बंदोबस्त राशि कुल 6600585 रुपये में कुल 2719008 रुपये की अनियमित रूप से छूट दिए जाने का आरोप प्रमाणित हुआ। इसके लिए महापौर व उपमहापौर समेत सशक्त स्थाई समिति के सभी सात सदस्यों को दोषी पाया गया। इस संबंध में नगर आयुक्त ने बताया कि महापौर व उपमहापौर सहित सभी संबंधित सात वार्ड पार्षदों को विभागीय निर्णय से अवगत करा दिया गया है। साथ ही उन्हें पदमुक्त किये जाने की सूचना भी दे दी गयी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here