दिल्ली : JP नड्डा बोले- दरभंगा में ही बनेगा AIIMS, गोपालजी ठाकुर ने सदन में रखी थी माँग। न्यूज़ ऑफ मिथिला

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) दरभंगा में ही बनेगा। इसके लिए उन्होंने पिछले माह पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बात की है। उन्होंने कहा, स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए मैंने दरभंगा में एम्स दिया था और यह वहीं बनेगा।

नड्डा शनिवार को यहां आंबेडकर अंतरराष्ट्रीय केंद्र में अखिल भारतीय मिथिला संघ के तहत आयोजित मिथिला विभूति स्मृति पर्व समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि दरभंगा में एम्स के साथ ही हवाई अड्डे का कार्य तीव्र गति पर है। उसकी सारी औपचारिकताएं पूरी हो गई हैं। उन्होंने नई दिल्ली से सहरसा और जयनगर तक दुरंतो रेल को सभी दिन चलाने की बात कही। इसके लिए वह रेल मंत्री पीयूष गोयल से जल्द मिलेंगे।

नड्डा ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक सबके विचार और नेतृत्व में एक बात समान है कि वे सबको साथ लेकर, जोड़कर चलते हैं। अटल जी की सरकार ने मैथिली को भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल किया। मोदी सरकार ने मखाना के लिए अनुसंधान केंद्र स्थापित करने की बात कही। मिथिला क्षेत्रीय नहीं भारतीय भाषा है। यह देश की संस्कृति को प्रदर्शित करती है। इसलिए इसको विकसित करना हमारी जिम्मेदारी है। विश्व मैथिली सम्मेलन के विचार से सहमति जताते हुए उन्होंने कहा कि इससे मानवता का भला होगा। मिथिला की संस्कृति को अधिक से अधिक लोग जानें, इसके लिए प्रयास किए जाने चाहिए। इस बात की खुशी है कि मधुबनी पेंटिंग को अब वैश्विक पहचान मिल चुकी है।
यह भी पढ़ें :30 नवंबर को दिल्ली में बड़ी संख्या में जुटेंगे मैथिल, होगा अद्भुत समागम : आयुष पुष्पम
इस मौके पर भाजपा नेता हुकुमदेव नारायण यादव ने कहा कि वर्ष 2014 में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था कि केवल बॉलीवुड या बड़े लोगों को ही पद्म सम्मान नहीं मिलने चाहिए। गरीबों में भी क्षमता और प्रतिभा है। इसके बाद केंद्र सरकार ने अब वेबसाइट बना दी है, जिससे गांव-देहात और पिछड़े इलाकों में कार्य करने वाले लोगों को भी यह सम्मान मिलता है।

दरभंगा के सांसद गोपाल जी ठाकुर ने कहा कि सांसद बनने के बाद मैंने लोकसभा में प्रथम बार बोलते हुए दरभंगा में एम्स निर्माण के लिए शून्य काल मे प्रश्न किया था, जिसका विभागीय मंत्री द्वारा सकारत्मक जवाब भी दिया गया था। मिथिला क्षेत्र प्रत्येक वर्ष प्राकृतिक आपदा के रूप में बाढ़ व सुखाड़ का सामना करती है। यह क्षेत्र अत्यंत पिछड़ा हुआ है तथा यहाँ के लोगों को अच्छे इलाज के लिए भटकना पड़ता है जिस कारण उनके धन तथा समय की बर्बादी होती है। इस कारण से मिथिला के हृदयस्थली दरभंगा में एम्स निर्माण होने से उत्तर बिहार के 22 जिले और नेपाल के 14 जिले के लोगों को इसका लाभ मिलेगा, मिथिला क्षेत्र की चीर-प्रतीक्षित मांग भी पूरी हो सकेगी तथा 7 करोड़ से अधिक आबादी को इसका सीधा लाभ मिलेगा।

कार्यक्रम में भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रभात झा, दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी, पूर्व केंद्रीय मंत्री हुकुमदेव नारायण यादव , दरभंगा से भाजपा सांसद गोपाल जी ठाकुर व अखिल भारतीय मिथिला संघ के अध्यक्ष विजय चंद्र झा भी उपस्थित रहे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *