दीक्षांत समारोह के लिए LNMU सजधजकर तैयार। न्यूज़ ऑफ मिथिला

दरभंगा , संवाददाता ।

10वें दीक्षांत समारोह को लेकर ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय पूरी तरह सज-धज कर तैयार है। कार्यक्रम को लेकर सारी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। विवि के प्रशासनिक भवन से लेकर समारोह स्थल सहित पूरे परिसर की झालरों से भव्य सजावट की गई है। साथ ही सुरक्षा को लेकर भी कड़े इंतजाम किए गए हैं। प्रत्येक आने-जाने वाले को जांच के बाद ही अंदर प्रवेश करने दिया जा रहा है। इसके लिए विशेष तौर पर भागलपुर से 15 बांउसरों को बुलाया गया है। मिलिट्री ड्रेस में खड़े गार्ड बिना कार्ड के किसी को अंदर प्रवेश करने नहीं दे रहे हैं। सोमवार को छात्र-छात्राओं ने दीक्षा समारोह को लेकर पूर्वाभ्यास किया गया। इस दौरान छात्र-छात्राएं व विवि के पदाधिकारी ड्रेस कोड में विद्वत शोभायात्रा करते नजर आए। इसमें सभी गोल्ड मेडल पाने वाले छात्र-छात्राओं, विद्वत परिषद, अधिषद एवं अभिषद के सदस्यगण, सभी संकायों के संकायाध्यक्षगण मौजूद थे। डब्लूआइटी की छात्राएं हाथों में ट्रे लिए रिहर्सल करती नजर आई। इधर, कुलगीत का भी रिहर्सल किया गया। मौके पर विवि के तमाम अधिकारी मौजूद थे।

अलग-अलग गेट से समारोह स्थल पर पहुंचेंगे अतिथि व कर्मचारी : लनामिविवि के दीक्षा समारोह में गेट नंबर एक से सीनेट, सिडिकेट, एकेडमिक कांउसिल के सदस्य, जनप्रतिनिधिगण, विभिन्न विवि के कुलपति, प्रतिकुलपति, कुलसचिव, विवि के पूर्व कुलपति तथा मीडियाकर्मी का प्रवेश होगा। गेट नबंर दो से महामहिम राज्यपाल सह कुलाधिपति, विवि के कुलपति, प्रतिकुलपति, कुलसचिव एवं कार्यक्रम की तैयारी से जुड़े पदाधिकारी तथा कर्मचारी प्रवेश करेंगे। गेट नंबर तीन से कॉलेजों के प्राचार्य, स्नातकोत्तर विभागाध्यक्ष, शिक्षक, पदाधिकारी का प्रवेश होगा। गेट नंबर चार को आपात स्थिति से निपटने के लिए रिजर्व रखा गया है। वहीं गेट नंबर पांच से छात्र और गेट नंबर छह से छात्रा और उपाधि प्राप्त करने वालों को प्रवेश मिलेगा।

10वें दीक्षा समारोह में कुल 1702 डिग्रीधारकों को उपाधि दी जाएगी। इनमें कॉर्मस में एमकॉम में 257, एमबीए में 34, एजुकेशन में 44, नाट्य एवं संगीत में 16, अंग्रेजी में 54, हिदी में 32, मैथिली में 6, संस्कृत में 6, उर्दू में 28, बॉयोटेक्नोलॉजी में 18, बॉटनी में 29, केमेस्ट्री में 99, गणित में 175, भौतिकी में 102, जुलॉजी में 150, एआइएच में 8, दर्शनशास्त्र में 1, अर्थशास्त्र में 69, भूगोल में 27, इतिहास में 130, होम साइंस में 28, राजनीति विज्ञान में 35, मनोविज्ञान में 117 व समाजशास्त्र में 30 को मिलेगी उपाधि। इसके साथ ही इन सभी विषयों को मिलाकर 217 पीएचडी धारकों को उपाधि दी जाएगी।

admin: