डॉ. जगन्नाथ मिश्रा अमर रहे के नारे से गूंजता रहा मुजफ्फरपुर-दरभंगा एनएच 57। न्यूज़ ऑफ मिथिला

न्यूज़ ऑफ मिथिला डेस्क । मुजफ्फरपुर-दरभंगा एनएच 57 बुधवार की सुबह बिठौली से लेकर दिल्ली मोड़ तक डॉ. मिश्रा अमर रहे के नारे से गूंजता रहा। सुबह करीब नौ बजे पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. जगन्नाथ मिश्रा की शवयात्रा के बिठौली पहुंचते ही बड़ी संख्या में लोग उनके अंतिम दर्शन के लिए उमड़ पड़े। सभी उनकी एक झलक पाने के लिए बेताब हो रहे थे।

डॉ. मिश्रा के पार्थिव शरीर को लेकर आ रही एम्बुलेंस यहां करीब पांच मिनट तक रुकी। इसके बाद शवयात्रा के बाजार समिति के पास पहुंचते ही देर से इंतजार में खड़े लोग एम्बुलेंस की ओर दौड़ पड़े। सभी अपने मोबाइल फोन में इस पल को कैद करने में जुट गए। यहां कांग्रेस और भाजपा के नेताओं व कार्यकर्ताओं के अलावा शिक्षा जगत के भी बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। इसके अलावा आम लोग भी उनके अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे थे।

एम्बुलेंस के यहां पहुंचने के बाद लोगों ने उनके पार्थिव शरीर पर माल्यार्पण किया। पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद सांसद गोपाल जी ठाकुर ने कहा कि डॉ. मिश्रा अद्वितीय व्यक्तित्व के थे। वे हमेशा मिथिलांचल और बिहार के विकास के लिए प्रतिबद्ध रहे। जाले के भाजपा विधायक जीवेश मिश्रा ने कहा कि मिथिलांचल के विकास में डॉ. मिश्रा के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता।

यहां एम्बुलेंस के पीछे चल रहे डॉ. मिश्रा के पुत्र व पूर्व ग्रामीण विकास मंत्री नीतीश मिश्रा भी गाड़ी से उतरे और लोगों की बात सुनी। उन्होंने यहां कहा कि नयी पीढ़ी अपने पिता और दादा से डॉ. मिश्रा के बारे में जानकारी लेगी तो उसे पूर्व मुख्यमंत्री के व्यक्तित्व के बारे में पता चलेगा। इस दौरान जब तक सूरज-चांद रहेगा, जगन्नाथ मिश्रा का नाम रहेगा आदि नारे लग रहे थे।

इस मौके पर कांग्रेस नेता पालन चौधरी के अलावा भाजपा जिलाध्यक्ष हरि साहनी, भाजयुमो जिलाध्यक्ष डॉ. निर्भय शंकर भारद्वाज, भाजपा के विधान पार्षद मिश्रीलाल यादव आदि उपस्थित थे। यहां थोड़ी देर रुकने के बाद शवयात्रा रवाना हुई और दिल्ली मोड़ पर पहुंची। वहां भी बड़ी संख्या में लोगों ने पूर्व सीएम के पार्थिव शरीर के दर्शन किये और श्रद्धांजलि अर्पित की। करीब पांच मिनट रुकने के बाद शवयात्रा यहां से सकरी के लिए रवाना हो गयी।

admin: