LNMU का अनोखा कारनामा, ‘जादू’ से B.SC की छात्रा बनी पंछी

दरभंगा, संवाददाता । बिहार में इंटर, मैट्रिक और विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित परीक्षाओं को लेकर गाहे-बगाहे कोताही और लापरवाही की चर्चा आम बात है. सूबे के ललित नारायण मिथिला विवि से एक ऐसा मामला प्रकाश में आया है, जिसे जानकर और सुनकर सभी लोग इसके माखौल उड़ा रहे हैं. जी हां, मामला एक पंछी के परीक्षा में शामिल होने का था.विवि के परीक्षा विभाग ने बाकी परीक्षार्थियों की तरह पंछी के चित्र सहित एडमिट कार्ड भी जारी कर दिया था.यह घटना शिक्षा व्यवस्था से जुड़े अधिकारियों की कार्यशैली पर सवाल खड़े कर रही है.

दरअसल ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय की कार्यशैली के कारण एक छात्रा का पूरा साल खराब हो गया। मानसिक व आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ा। जीडी कॉलेज की बीएससी थर्ड पार्ट की छात्रा के एडमिट कार्ड पर उसकी जगह एक पंछी की तस्वीर छाप दी गई। बाद में किसी प्रकार परीक्षा में शामिल हुई, लेकिन जब जून 2018 में रिजल्ट प्रकाशित हुआ तो उसे एक पत्र में अनुपस्थित बताया गया।

छात्रा ने इसकी शिकायत कॉलेज में की तो उसे विवि मुख्यालय भेज दिया गया। यहां आवेदन देने पर 15 दिनों में रिजल्ट में सुधार का आश्वासन दिया गया, लेकिन इसे ठीक होने में सात महीने लग गए। रिजल्ट तो सुधरा लेकिन तस्वीर नहीं बदली। रिजल्ट जारी होने के बाद से छात्रा कॉलेज से लेकर विश्वविद्यालय मुख्यालय के चक्कर लगा रही है।

केमेस्ट्री ऑनर्स की छात्रा सुगंधा कुमारी (रौल नंबर – 161030702567) ने अपनी तस्वीर अपलोड करते हुए परीक्षा फार्म ऑनलाइन जमा किया। फार्म जमा करने के बाद जब उसका प्रिंट निकाला तो उस पर उसकी तस्वीर अंकित थी। विश्वविद्यालय ने एडमिट कार्ड अपलोड किया तो उसे डाउनलोड करने पर उसकी तस्वीर की जगह एक पंछी की आकृति अंकित थी। रिजल्ट पर भी पंछी की तस्वीर ही अंकित मिली। एडमिट कार्ड व रिजल्ट में सुधार के लिए छात्रा ने विवि के अधिकारियों को पहला आवेदन 11 जुलाई 2018 को ही दिया था।

सुगंधा ने बताया कि रिजल्ट क्लियर नहीं होने के कारण वह पीजी में नामांकन से वंचित रह गई। पिछले सात माह में कई बार विवि मुख्यालय का चक्कर लगा चुकी है। परीक्षा विभाग से लेकर वीसी कार्यालय तक गुहार लगाई। बेगूसराय से दरभंगा का चक्कर लगाना काफी मुश्किल है, लेकिन समस्या को समझने वाला कोई नहीं।

एडमिट कार्ड पर छात्रों की तस्वीर बदलने का यह पहला मामला नहीं है। इससे पूर्व डिग्री थ्री परीक्षा 2017 के समय भी एसएमजे कॉलेज खाजेडीह की एक छात्रा के एडमिट कार्ड पर अश्लील फोटो अपलोड कर हो गई थी। मामला प्रकाश में आने के बाद फौरन तस्वीर को बदल दिया गया। इससे पूर्व भी एक छात्र के एडमिट कार्ड पर भगवान गणेश की तस्वीर अपलोड होने का मामला सामने आया था जिसमें विवि प्रशासन ने साइबर कैफे की गलती बता कर पल्ला झाड़ लिया था।
इस संबंध में पूछे जाने पर लनामिविवि के परीक्षा नियंत्रक डॉ. अशोक कुमार मेहता ने कहा कि मामला संज्ञान में आ चुका है। छानबीन की जा रही है कि किस स्तर पर गड़बड़ी हुई। छात्रा का जो नुकसान हो चुका है, उसकी भरपाई तो नहीं की जा सकती, लेकिन उसका सही अंकपत्र उसे हर हाल में उपलब्ध कराया जाएगा।

admin: