फणीश्वरनाथ का डाक टिकट उपलब्ध नहीं, धानुक समाज नाराज

नई दिल्ली । साहित्यकार फणीश्वरनाथ ‘रेणु’ के नाम पर वर्ष 2016 में डाक टिकट जारी हुआ था, लेकिन अभी तक डाकघरों में उपलब्ध नहीं होने से बिहार धानुक समाज की नाराजगी बढ़ती जा रही है। अररिया जिला के औराही गांव में शिलानाथ मंडल के घर उनका जन्म हुआ था। उनका बचपन का नाम फनीश्वरनाथ मंडल था। वे एक आंचलिक कथाकार थे उनकी कई रचनाओं को प्रसिद्धि मिली है। हिंदी के कई पाठ्य पुस्तकों में उनकी रचनाओं को प्रमुखता दिया गया है । उन्हें देश को उत्कृष्ट साहित्य सेवा और स्वतंत्रता सेनानी के लिए पद्मश्री दिया गया था। मैला आंचल का रुषी भाषा मे अनुवाद रेणु के जीवनकाल में ही हुआ था फिर एक दर्जन से ज्यादा विदेशी भाषा मे बाद मे इसका अनुवाद हुआ। रेणु ने जेपी के सम्पूर्ण क्रांति आन्दोलन में अग्रदूत सिपाही की भुमिका निभाई थी और जेपी को बचाने के क्रम में वे खुद घायल होकर अस्पताल मे भर्ती हुए थे। इतना ही नहीं पडोसी देश नेपाल को राणाशाही के चंगुल से मुक्त कराने हेतु वहां भी आन्दोलन मे सक्रिय भुमिका निभाई और आन्दोलन से जुडी एक जीवंत दस्तावेज को रिपोर्ताज के रुप मे “नेपाली क्रांति कथा” नामक पुस्तक के रुप में लिख डाला। देश मे लगे इमरजेंसी के खिलाफ उन्होंने खुद को मिले पद्मश्री उपाधि को तत्कालीन सरकार को वापस लौटा दिया था।
उनके नाम से डाक टिकट जारी होने के बावजूद भी अभी तक डाकघरों में उपलब्ध नहीं हो सका है जिससे समाज में नाराजगी है। धानुक समाज फणीश्वरनाथ “रेणु” जी को प्रेरणाश्रोत मानते है एवं अपने महापुरुष के सम्मान में हो रहे देरी से नाराज है। अखिल भारतीय धानुक एकता महासंघ के राष्ट्रीय महासचिव उदय मंडल ने प्रधानमंत्री को पत्र लिख कर मांग किया है कि आगामी 4 मार्च को फणीश्वरनाथ “रेणु” की जन्म जयंती पर डाकघरों में डाक टिकट उपलब्ध करवाया जाय साथ हीं साथ उनकी मृत्यु के सही – सही कारणों का पता लगाने के लिए जाँच कमिटी का गठन कर पुन: जाँच करवाया जाए। उन्होंने लिखा है कि फणीश्वरनाथ “रेणु” के लिए यह सम्मान काफी नहीं है इसलिए उन्हें “भारत रत्न” दिया जाना चाहिए।
राष्ट्रीय अध्यक्ष बीरेंद्र मंडल, युवा मोर्चा अध्यक्ष रमण मंडल, प्रदेश अध्यक्ष दक्षिणेश्वर राय, प्रदेश महासचिव सरोज कुमार “रेणु” एवं प्रदेश मीडिया प्रभारी डा मनोज कुमार गौतम ने इस मांग का स्वागत किया है एवं बहुत जल्द अखिल भारतीय धानुक एकता महासंघ के द्वारा इस मुहीम को पूरे भारत में चलाया जायेगा।

admin: