ज्ञान और दान की भूमि मिथिला – इसी कहावत को चरितार्थ कर रहा है ज्ञानोदय पहल – अपर मुख्य सचिव भी कायल है इस पहल के

न्यूज डेस्क. IAS डॉ श्रीकांत बाल्दी उन आई.ए.एस. अधिकारियों में से एक है जिन्होने अपने कठिन परिश्रम और ईमानदार छवि के बल पर अपर मुख्य सचिव (हिमाचल प्रदेश) के पद पर वर्तमान में विराजमान है| यह और भी खास हो जाता है जब हिमाचल में रहते हुए वे बिहार राज्य के मिथिला क्षेत्र में हो रहे पहल के बारे में भी उनको जानकारी लेते रहते है|

डॉ श्रीकांत ने समाजसेवी सी.ए. प्रभाष झा द्वारा बिहार राज्य में नमामि मिथिला फाउंडेशन संस्था के तत्वाधान में संचालित ज्ञानोदय अर्थात शिक्षादान के पहल की तारीफ़ करते हुए हर किसी को इसकी मदद करने की अपील की है | डॉ श्रीकांत ने कहा की प्रभाष शिमला में अच्छे पद पर कार्यरत थे लेकिन समाज व राष्ट्र हित में कुछ करने की जज्बा ने उन्हें कुछ हट के करने को विवश किया और परिणामस्वरुप ज्ञानोदय जैसे जनव्यापक अभियान का सृजन हुआ| डॉ श्रीकांत ने संस्था के द्वारा आगामी 5 वर्ष में एक लाख बच्चो को शिक्षा दान के इस पहल से जोड़ने के संकल्प में हर किसी को यथासंभव मदद की अपील की है | डॉ श्रीकांत ने जोर देते हुए कहा की प्रभाष समाज के उस समुदाय के बच्चो को निः शुल्क शिक्षित कर रहें है जो वंचित है,लेकिन एक शिक्षित समाज ही एक सशक्त राष्ट्र और समाज की नीव है|

विदित हो की ज्ञानोदय पिछले दो वर्षो से शिक्षादान के माध्यम से बिहार राज्य खासकर कोशी कमला क्षेत्र के दलित , महादलित और गरीब सैकड़ो बच्चो की जिंदगी संवारने में लगे है| संस्था के तरफ से स्लेट, पेंसिल, कॉपी , कलम के साथ साथ प्रत्येक 25 बच्चो पर एक शिक्षक या शिक्षिका का निःशुल्क सेवा दिया जाता है| यही नहीं एक केंद्र के सेवादार प्रतिदिन निर्धारित समय से करीब करीब एक घंटा पहले ही घर घर जाकर बच्चो को उठाते है, यहाँ तक की ब्रश और तैयार भी करवाते है| उनका कहना है बच्चे पढ़ेंगे तभी तो बढ़ेंगे| वर्तमान में चार केन्द्रो के माध्यम से करीब 500 नामांकित बच्चो को प्रतिदिन शिक्षादान दिया जाता है | संस्था के संयोजक समाजसेवी सी ए प्रभाष झा का कहना है की प्रेम और सेवा किसी पद या समय का मोहताज नहीं | श्री झा जो की पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट है और कॉर्पोरेट जगत में अपना एक पहचान है| लेकिन श्री झा बार बार इस बात को दोहराते है अगर आप टैक्स भरते है या चुकाते है और अपने आपको देशसेवा या देशभक्ति के कर्ज से मुक्त समझते है तो इसपे दुबारा सोचने विचारने की जरुरत है| क्योकि वैसी सफलता का क्या मोल जहाँ हम तो खुश है , हमारा पेट तो भरा है , हम तो शिक्षित है लेकिन हमारे आस पास के भाई बंधू भूखा सो रहा है और ना तो खुश है , ना ही शिक्षित| अगर हम नहीं बदलेंगे तो कौन बदलेगा अपने समाज और राष्ट्र को | अगर हम और आप भगवन का इंतजार कर रहें है तो हो सकता है की भगवन भी हम सब का इंतजार कर रहें हो| इसलिए एक कदम ही सही लेकिन हम अपने समाज को बदल के रहेंगे| आप सब संस्था के वाटस उप नंबर या मोबाइल नंबर 8130294700 पर संपर्क कर सकते है|

बताते चले कि ज्ञानोदय नामक पहल की प्रशंसा पूर्व में होती रही है चाहे बिहार के दबंग आईपीएस अधिकारी मनु महाराज हो या मशहूर फिल्ममेकर प्रकाश झा हो या दबंग फिल्म निर्देशक अभिनव कश्यप या वर्तमान उपमुख्मंत्री सुशील मोदी हो..

admin: