चुनाव लड़ने नहीं, जदयू को सशक्त बनाने आया हूं : पीके

पटना । जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने सोमवार को मुख्यमंत्री आवास एक अणे मार्ग में छात्र जदयू और युवा जदयू के कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों के साथ बैठक की और उन्हें जीत की घुट्टी पिलायी. उन्होंने अपनी रणनीति का खुलासा करते हुए कहा कि वह लोकसभा या राज्यसभा का चुनाव नहीं लड़ेंगे.
वह 10 साल सिर्फ बिहार की सेवा करेंगे. उसे टॉप टेन राज्यों में शामिल कराने के बाद ही अपना आगे का टास्क तय करेंगे. साथ ही उन्होंने कहा कि  2019 के लोकसभा चुनाव और और 2020 के विधानसभा चुनाव में टिकट वितरण में जदयू युवाओं को प्राथमिकता देगा. करीब चार घंटे तक चली बैठक में तय किया गया कि अब जदयू के छात्र और  युवा विंग मिलकर काम करेंगे. दोनों विंग को  2019  अौर 2020 के चुनावों को लेकर टास्क दिया गया. बैठक में कार्यकर्ताओं और छात्रों ने शिकायत की कि संगठन से जुड़े लोग उनको सम्मान नहीं देते हैं.
उनकी अनदेखी की जा रही है. इस पर निर्णय लिया गया कि अब प्रत्येक जिले में समन्वयक समिति बनायी जायेगी. जदयू के प्रदेश कार्यालय में भी एक शिकायत कोषांग बनाया जायेगा. प्रदेश स्तर के पदाधिकारियों को इसका प्रभार दिया जायेगा. उनके माध्यम से कार्यकर्ताओं की संगठन और सरकार से जुड़ी शिकायतों को दूर किया जायेगा. संगठन को मजबूत करने को लेकर भी कार्ययोजना तैयार की गयी है. प्रशांत किशोर ने कहा कि युवा जदयू के हर जिलाध्यक्ष को 200 और छात्र जदयू के जिलाध्यक्ष को 100 सक्रिय कार्यकर्ता बनाने होंगे. प्रदेश स्तर के पदाधिकारियों को भी  200-200 कार्यकर्ता बनाने का टास्क मिला है.
यह टास्क दो माह में पूरा करना है. बैठक में विधान परिषद में जदयू के मुख्य सचेतक संजय कुमार सिंह उर्फ गांधीजी, छात्र जदयू के प्रभारी रणवीर नंदन, युवा जदयू के प्रदेश अध्यक्ष अभय कुशवाहा, विधायक वशिष्ठ सिंह, युवा जदयू के उपाध्यक्ष ओमप्रकाश सेतु, छात्र जदयू के प्रदेश अध्यक्ष श्याम पटेल मौजूद थे.

admin: